तो इस बड़ी वजह से अगवा की गई थी बस, मास्टर माइंड प्रदीप पुलिस मुठभेड़ में घायल

आगरा। बुधवार तड़के अगवा की गयी बस को पुलिस ने देर शाम इटावा के बलराय थाना क्षेत्र में स्थित एक ढाबे के पीछे से बरामद कर लिया। इस दौरान बस को हाइजैक करने वाले मास्टर माइंड प्रदीप गुप्ता की पुलिस से मुठभेड़ भी हुई, जिसमें उसे गोली लगी और वह अस्पताल में भर्ती है। बता दें कि बुधवार को आगरा से यात्रियों से भरी बस (UP75 M 3516) को हाइजैक कर लिया गया था। बस में कुल 34 यात्री सवार थे। घटना की खबर मिलते ही पुलिस महकमे में हडकंप मच गया। पुलिस के तमाम आलाधिकारी मौके पर पहुंच गया और बस की तफ्तीश में जुट गये। पुलिस की शुरूआती जांच में पता चला कि बस को श्रीराम फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी इसलिए लेकर चले गये क्योंकि बस के मालिक ने उसकी क़िस्त नहीं जमा की थी, लेकिन बाद में जब इस घटना के मास्टर माइंड प्रदीप गुप्ता की थाना फतेहाबाद इलाके में पुलिस की चेकिंग के दौरान बताया तो पूरी घटना की हकीकत खुलकर सामने आ गई। बताया जाता है कि चेकिंग के दौरान जब पुलिस ने प्रदीप की बाइक रोकनी चाही तो वह भाग खड़ा हुआ और पुलिस पार गोली चला दी, जिस पर पुलिस ने जवाबी फायरिंग की। इस मुठभेड़ में प्रदीप घायल हो गया। प्रदीप के पकड़े जाने और बस मालिक के प्रदीप को पहचानने के बाद कहानी में एक न्य एंगल सामने आया। पैसे का था विवाद बस मालिक अशोक अरोड़ा और प्रदीप के बीच पैसों के लेन देन को लेकर कोई विवाद था जिससे उRead More…

अखिलेश की साफ छवि को कलंकित करने का प्रयास प्रो डाँ योगेन्द्र यादव

अखिलेश की साफ-सुथरी छवि को कलंकित करने का प्रयास आगामी 2022 का चुनाव में राजनीतिक दलों के काम नहीं, पार्टी प्रमुखों की छवि निर्णायक भूमिका निभाएगी। अपनी यात्राओं के द्वारा हो रही चर्चा में यह एक नई बात निकल कर आई है। जनता का मानना है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, कांग्रेस की प्रियंका गांधी, बसपा सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अपने-अपने दलों द्वारा अधिकृत चेहरे के रूप में प्रस्तुत होंगे । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक संत पुरुष हैं। उनका व्यक्तिगत जीवन तो निष्कलंक है। लेकिन मुख्यमंत्री बनने के पूर्व उन पर कई केस दर्ज थे। हालांकि बक़ौल मुख्यमंत्री वे सभी केस राजनीतिक और उनके विरोधियों की साजिश के नतीजे थे। अपने मुख्यमंत्रित्व काल में कोरेना संकट के समय अगर कुछ आक्षेपों को हटा दिया जाए, तो बिना भेदभाव के उन्होने लोगों को जो सरकारी मदद पहुंचाई है। वह काबिलेतारीफ है। लेकिन इसके बाद भी मुस्लिम संप्रदाय द्वारा आज भी अपने धर्म के प्रति कट्टर माने जाने वाले योगी की स्वीकार्यता नहीं है ।
दूसरा चेहरा प्रियंका गांधी का है। चर्चित चेहरा है, पिछले दिनों जनता की समस्याओं को लेकर जिस तरह से उन्होने संघर्ष किया। उससे प्रदेश की जनता का उनके प्रतRead More…

चेयरमैन के साथ अधिशासी अधिकारी ने बिना मास्क लगाये व्यापारियों के किये चालन

जसराना में चेयरमैन के साथ अधिशासी अधिकारी ने बिना मास्क लगाऐ व्यापारियों के किए चालान जसराना नगर पंचायत अध्यक्ष अवनीश गुप्ता और उनके साथ अधिशाशी अधिकारी आलोक रंजन ने पुलिस प्रशासन के साथ बिना मास्क लगाए व्यापारियों के किये चालान और आगे से मास्क लगाने की हिदायत दी साथ  ही चल रहे नगर पंचायत अध्यक्ष अवनीश गुप्ता ने कहा सड़क किनारे लगे फल के ठेले सब्जी के ठेले के पास पडा कूडा खुद नगर पंचायत अध्यक्ष ने उठाया कहां कूड़े को सड़क पर ना फेंके कूड़ेदान में ही डालें क्या सहारानीय कार्य कर रहे नगर पंचायत अध्यक्ष अवनीश गुप्ता ने व्यापारियों से अपील की नगर में अपने आसपास गंदगी फैलने न दे और सभी लोग मास्क और सोशल डिस्टेसिंग का प्रयोग करे ताकि आप सब सुरक्षित रहें और आपका परिवार सुरक्षित रहें आलोक रंजन अधिशास अधिकारी ने कहा जो लोग बिना मास्क के दुकान पर बैठे हुए मिले तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी रिपोर्ट राजेश यादव डिप्टी ब्यूरो चीफ फिरोजाबाद मानवाधिकार मीडिया सच आप तक   Read More…

लगातार हत्याओ से सहमा ब्रह्मामण समाज कृष्णा सुदामा प्रसंग का पुनः आगाज प्रो डाँ योगेन्द्र यादव

लगातार हत्याओं से सहमा ब्राह्मण समाज – कृष्ण सुदामा प्रसंग का पुन: आगाज
उत्तर प्रदेश की सियासत में ब्राह्मण समाज सदा से महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता आया है। वह किसी दल के प्रचार में भले ही प्रत्यक्ष रूप से प्रचार न करता हो, लेकिन लगातार व्यक्तिगत और सामूहिक चर्चाओं से एक माहौल बना देता है। यानि देश या उत्तर प्रदेश में चुनाव के समय जो हवा बनती है, उसे बनाने का श्रेय ब्राह्मण समाज को ही जाता है। इसी कारण चाहे जिसकी सरकार बने, उसे बनवाने में एक बड़ा रोल निभाता है। अपनी समाजवादी सरकार के दौरान उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनको खूब सम्मान दिया। मंत्रिमंडल में भी यथेष्ट जगह दी। जो भी उन्होने कहा, उसे किया। सदा ही उनका सम्मान किया। लेकिन इसके बावजूद भी उत्तर प्रदेश के ब्राह्मणों को ऐसा लगा की भाजपा में उसे और सम्मान और अधिकार मिलेगा । जबकि चुनाव के पहले अपने प्रति अखिलेश के सकारात्मक व्यवहार रवैया और व्यवहार के कारण तमाम ब्राह्मण नेता यह कह रहे थे कि केंद्र में मोदी और उत्तर प्रदेश में अखिलेश की सरकार होगी। लेकिन मोदी के प्रति उनका प्रेम भारी पड़ गया । जिसके कारण ब्राह्मणों ने ही अखिलेश यादव को सत्ता से हटाने के लिये माहौल बनाना शुरू कर दिया । जिसका परिणाम भी उनके पक्ष में आया। जाति से ऊपर उठ कर विकास की गंगा बहाने वाले अखिलेश कRead More…

समाजवादी पार्टी की आंतरिक चुनौतियाँ और अखिलेश

समाजवादी पार्टी की आंतरिक चुनौतियाँ और अखिलेश समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव 2022 के चुनाव को लेकर काफी संजीदा दिखाई दे रहे हैं। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर उन्होने 351 सीट जीतने की घोषणा भी कर दी है । इसके बाद समाजवादी पार्टी के हर कार्यकर्ता और नेता ने यह मान लिया है कि आगामी विधानसभा चुनाव में वे 351 सीटें जरूर जीत रहे हैं। अपनी चर्चाओं में जब मैं उनसे उनकी ही विधानसभा की जीत और हार पर चर्चा करता हूँ, तो वे बगले झाँकने लगते हैं और इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार की कमियाँ गिनाने लगते हैं और कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में सत्तासीन योगी सरकार कुछ नहीं कर रही है । योगी सरकार इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगे किसी की चल नहीं रही है । जिस प्रकार केंद्र में अमित शाह और मोदी की जोड़ी के अलावा किसी नहीं चल रही है और पूरी सरकार मोदी और अमित शाह के नाम से जानी जा रही है, उसी प्रकार उत्तर प्रदेश में भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संगठन मंत्री सुनील बंसल की जोड़ी मशहूर हो चुकी है । दूसरे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आभा मण्डल के आगे अन्य सभी नेता, विधायक व मंत्री इतने फीके हो गए है कि अंतर्मुखी से दिखाई पड़ते हैं । इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीयRead More…

एसपी ग्रामीण ने सुबह से ही लाँकडाउन का पालन कराने तथा लोगों को जागरूक करने के लिए संभाली कमान

: *फ़िरोज़ाबाद ब्रेकिंग* *एसपी ग्रामीण ने सुबह से ही लॉकडाउन का पालन कराने तथा लोगों को जागरूक करने के लिए संभाली कमान* *एसपी ग्रामीण राजेश कुमार ने कई कस्बों में किया भ्रमण* *एसपी ग्रामीण ने शिकोहाबाद, सिरसागंज तथा जसराना में पैदल गस्त कर लोगों को बताए कोरोना वाइरस से बचाव के उपाय* *एसपी ग्रामीण ने 55 घंटे के लॉकडाउन का कढ़ाई से पालन कराने के लिए अधीनस्थों को दिए निर्देश* *अनावश्यक घूम रहे लोगों से की पूछताछ, कइयों को काटे चालान, कुछ को दी सख्त हिदायत* *रिपोर्ट राजेश यादव डिप्टी ब्यूरो चीफ फिरोजाबाद मानवाधिकार मीडिया सच आप तकRead More…

बिकास दुबे का सफाया और उसके राजनीतिक निहितार्थ

रिपोर्ट   राजेश यादव डिप्टी ब्यूरो चीफ फिरोजाबाद मानवाधिकार मीडिया सच आप तक विकास दुबे का सफाया और उसके राजनीतिक निहितार्थ बिकरू हत्याकांड के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे की एसटीएफ के साथ एनकाउंटर में मौत हो गई। एनकाउंटर कानपुर से महज 17 किलोमीटर दूर भौती कस्बे के पास हुआ। घटना के वक्त बारिश हो रही थी। सड़क पर बिखरे कीचड़ की वजह से तेज रफ्तार जा रही गाड़ी पलट गई। पुलिस वालों को घायल जान उनकी पिस्टल छीन कर भागने लगा। पीछे की गाड़ी से आ रहे एसटीएफ के कमांडों उसके पीछे भागे, तो उसने गोली चला दी। जवाबी फायरिंग में एक गोली उसकी कमर और दूसरी सीने में लगी। इसके बाद उसे हॉस्पिटल लाया गया, जहां उसकी मौत हो गई । इस पूरी घटना में एसटीएफ के 4 जवान भी घायल हो गए । इस तरह से एक दुर्दांत अपराधी का अंत हुआ। इस अपराधी ने विगत 2 जुलाई को उसके घर पर छापा मारने गए 8 पुलिस अधिकारियों और जवानों को अंधाधुंध गोलियां बरसा कर मार डाला ।
उत्तर प्रदेश की जनता यह अच्छी तरह जानती है, कि ऐसे अपराधियों को पनाह और हौसला खाकी और खादी से ही मिलता है। इसी कारण उत्तर प्रदेश में अपराधी बेखौफ होकर अपराध करते हैं और जब उनकी धड़-पकड़ की कोशिश की जाती है, तब उन्हें प्रदेश से बाहर भगाने में मदद भी करते हैं । विकास दुबे के बारे में प्रदेश की जनता को यह देखने – सुनने को मिला । यह भी बात सही है कि अRead More…

कस्बा तिराहे पर हाईटेंशन तार टूटने से बाइक जलीऔर तीन लोग गम्भीर घायल लोग

फिरोजाबाद के थाना जसराना क्षेत्र के  कस्बा पाढ़म तिराहे पर उस समय हडकंप मच गया जब एक हाईटेंशन तार टूटकर गिरने से नीचे खडे तीन लोग झुलस गए। लोगों ने आनन-फानन में विद्युत कटवाकर मानश्री पत्नी कालीचरण, राखी पुत्री विनोद कुमार निवासी नगला काछी थाना जसराना एवं संतोष कुमार पुत्र फूलसिंह निवासी यदुवंशनगगर शिकोहाबाद को तारों से अलग किया। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस गंभीर रुप से झुलसे तीनों लोगों को जसराना के सामुदायकि स्वास्थय केंद्र लेकर आई। जहां हालत गंभीर होने पर डाक्टरों ने रैफर कर दिया। हादसे के बाद आक्रोशित लोगों ने बिजलीघर पर जाकर जमकर हंगामा काटा
रिपोर्ट राजेश यादव डिप्टी ब्यूरो चीफ फिरोजाबाद मानवाधिकार मीडिया सच आप तकRead More…

उत्तर प्रदेश में जरायम की संरक्षित नई दुनियां

उत्तर प्रदेश में जरायम की संरक्षित नई दुनियाँ उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात के जिले में कानपुर देहात के बिकरू गाँव में घटी घटना से पूरा देश स्तब्ध है । हर कोई इसकी अपने-अपने हिसाब से व्याख्या कर रहा है। इस घटना से एक बात तो तय हो गई है कि जिस पुलिस के बारे में यह कहा जाता था कि वे हर प्रकार का भ्रष्टाचार कर सकते हैं, लेकिन जब उनके विभागीय जवानों पर आती है, तब वे खूंखार हो जाते हैं, और बड़े से बड़े बदमाशों को भी नेस्तनाबूत कर देते हैं । लेकिन इस घटना में एसटीएफ की तफ़शीश से जो खुलासा हुआ है, वह काफी चौकाने वाला है ।
यह बात सही है कि इस धरती पर जन्म लेने वाला कोई भी मनुष्य जन्मजात अपराधी नहीं होता है। उसे अपराधी यहाँ का सिस्टम बनाता है । ऐसा ही कुछ विकास दुबे के बारे में भी कहा जा सकता है। आज जिस स्थिति को विकास दुबे ने अंजाम दिया है, उसके पीछे पुलिस और राजनेताओं द्वारा उसे दी गई शह ही दिखाई पड़ती है। आज कल जो दिखाई दे रहा है कि हर युवा राजनीति करना चाहता है, या वह जो कर रहा होता है, उसके लिए राजनीतिक संरक्षण प्राप्त करना चाहता है। इस कारण अपने गाँव से लखनऊ और दिल्ली उसके चक्कर लगते रहते हैं। राजनेताओं को भी ऐसे ही लोगों की जरूरत होती है, जो दबंग हो, और उनके लिए किसी भी हद तक त्याग करने को तैयार हो। विकास दुबे के साथ भी ऐसा था। वह शुरू से ही दबंग था, शरीर से भी मजबूत होRead More…