कोविड टीकाकरण के लिए 54,900 वायल्स कोविशील्ड का आंवटन

बिहार

कोविड टीकाकरण के लिए 54,900 वायल्स कोविशील्ड का आंवटन

पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट से लाया गया है वै​क्सिन

पटना पहुंचा कोविड 19 के टीका का पहला खेप

मधुबनी: कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए 16 जनवरी से टीकाकरण किया जायेगा. इसके लिए वैक्सीन की आपूर्ति की गयी है. मंगलवार को पटना स्थित जय प्रकाश नारायण एयरपोर्ट पर कोरोना टीका का पहला खेप पहुंचा। इस अवसर पर खुद स्वास्थ्य मंत्री श्री मंगल पाण्डेय, प्रधान सचिव, स्वास्थ्य श्री प्रत्यय अमृत एवं राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार उपस्थित थे।

भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा बिहार राज्य में डोज वाली कोविशील्ड वैक्सिीन की 54,900 वायल्स आवंटित की गई है। अपराह्न 1.30 बजे स्पाइसजेट के विमान संख्या SG757 द्वारा यह खेप पुणे के सीरम इन्स्टिट्युट से सीधा पटना लाया गया। माननीय मंत्री स्वास्थ्य ने खुद एयरपोर्ट पहुंच कर इस खेप को प्राप्त किया। इस खेप को प्राप्त कर राज्य टीकौषधी भंडार, एन.एम.सी.एच.,पटना में भंडारित करवाया गया।

एक ही लाभार्थी को दो टीका पड़ना है अनिवार्य:
भारत सरकार द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश के अनुसार, जिस लाभार्थी को कोविड का टीका तय किए गए तारीख को पड़ेगा। उसी लाभार्थी को दुबारा 28 दिनों के अंतराल पर वही टीका पड़ेगा। 28 दिनों तक टीके का संरक्षण एवं उसे सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी संबंधित जिले की होगी।

कोविड-19 वैक्सीन सभी के लिए सुरक्षित:
कोविड टीका सभी प्रमाणित वैक्सीन पूरी प्रक्रिया के गुजरने का बाद ही स्वीकृत की गयी है और पूर्णतया सुरक्षित है। चरणवार तरीके से इसे सभी को उपलब्ध कराने की सरकार की योजना है। टीकाकरण के पश्चात लाभार्थी को किसी प्रकार की परेशानी के प्रबंध के लिए सत्र स्थल पर एनाफलीसिस कीट एवं एईएफआई कीट की पर्याप्त संख्या में उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी तथा इसके लिए संबंध टीकाकर्मी चिकित्सा को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

प्रत्येक सत्र पर 100 कर्मियों का होगा वैक्सीनेशन:
100 लाभार्थियों की संख्या पर एक दल का गठन होगा। प्रत्येक सत्र पर 100 लाभार्थियों का टीकाकरण किया जाएगा। टीकाकरण दल के सदस्यों के लिए अनिवार्य रूप से पहचान पत्र लगाना आवश्यक है। चयनित सत्र स्थलों पर 16 जनवरी को टीकाकरण के लिए नामित सभी लाभार्थियों की सूची टीकाकरण सत्र स्थल पर 2 दिन पहले अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाएगा।