उपायुक्त लोहरदगा की अध्यक्षता में आज कृषि व इससे संबंधित विभागों की बैठक संपन्न हुई।

झारखंड

उपायुक्त लोहरदगा की अध्यक्षता में आज कृषि व इससे संबंधित विभागों की बैठक संपन्न हुई।

लोहरदगा।

उपायुक्त लोहरदगा की अध्यक्षता में आज कृषि व इससे संबंधित विभागों की बैठक संपन्न हुई। बैठक में सर्वप्रथम उद्यान विभाग की समीक्षा करते हुए उपायुक्त द्वारा किसान, माली, मधुमक्खी पालन आदि प्रशिक्षण के लिए लाभुकों के चयन व अन्य बिंदुओं का अवलोकन किया गया। जिला उद्यान पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि माली का प्रशिक्षण 90 दिनों तक चलेगा जिसके लिए 06 आवेदकों के आवेदन शाॅर्टलिस्ट किये गये हैं। उपायुक्त द्वारा सभी तरह के प्रशिक्षण के लिए लाभुकों की सूची तैयार किये जाने का निदेश दिया गया।

भूमि संरक्षण

सहायक भूमि संरक्षण पदाधिकारी द्वारा जानकारी दी गई कि राज्यादेश के अनुसार इस वर्ष 90 प्रतिशत अनुदान पर 520 पंपसेट का वितरण किया जाना है। इसके विरूद्ध 350 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। कृषि यत्र प्रोत्साहन योजना अंतर्गत 24 स्वयं सहायता समूहों के बीच ट्रैक्टर व पावर टिलर का वितरण किया जाना है। उपायुक्त द्वारा इस बिंदु पर जेएसएलपीएस कार्यक्रम प्रबंधक को निदेश दिया गया कि टाना भगतों को भी इस योजना में शामिल किया जाय। कम से कम 9 टाना भगतों का समूह बनाया जाय और उन्हें इस योजना का लाभ दिया जाय। साथ ही, पंप सेट का भी लाभ दिया जाय।

कृषि

कृषि विभाग की ओर से आत्मा की परियोजना उप निदेशक ने बताया कि अब केसीसी के 24365 आवेदन सृजित हुए हैं जिनमें 1702 आवेदन का ऋण स्वीकृत हो चुका है। मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लिए 35 माॅडल गावों का चयन किया गया है। जिले में प्राप्त 325 क्विंटल सरसों बीज का वितरण किया जा चुका है। ड्रिप सिंचाई की योजना 1 हजार हेक्टेयर की भूमि पर ली जाना है। उपायुक्त द्वारा निदेश दिया गया कि केसीसी के लिए सभी एटीएम/बीटीएम को लगाया जाय।

गव्य

गव्य विकास पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि केसीसी के लिए 2724 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से 1183 केसीसी स्वीकृत हो चुके हैं। 10 लोगों को प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए चयनित किया गया है। उपायुक्त द्वारा निदेश दिया गया कि टाना भगतों को भी इसका लाभ दिया जाय। अगर गाय की योजना आई है तो लाभुक चयन की प्रक्रिया की जाय।

पशुपालन

जिला पशुपालन पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिला में अब तक बर्ड फ्लू के किसी भी मामले की पुष्टि नहीं हुई। किसी तरह की सूचना अब तक प्राप्त नहीं हुई। बर्ड फ्लू के मामलों पर त्वरित रिस्पांस के लिए क्विक रिस्पांस टीम और रैपिड एक्शन टीम बना दी गई है। उपायुक्त द्वारा निदेश दिया गया कि बर्ड फ्लू के लिए टीम को सक्रिय रखें। किसी भी तरह की सूचना मिलने पर उसकी पुष्टि कर ली जाय व सैंपल जांच के लिए भेजा जाय।
जिला पशुपालन पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि विशेष पशु चिकित्सा शिविर जिले के सभी पंचायतों में दो-दो जगहों पर लगाया जाना है। टीकाकरण का कार्य 51886 पशुओं में किया जा चुका है। कृत्रिम गर्भाधान 1468 पशुओं का किया गया है।

सहकारिता

जिला सहकारिता पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिला में 998 गेहूं क्विंटल बीज का वितरण किया जा चुका है। चना तथा सरसों का भी बीज का वितरण किया जा चुका है।

बैठक में जिला सहकारिता पदाधिकारी जगमनी टोप्पो, जिला मत्स्य पदाधिकारी कमरूज्ज्मां, जिला गव्य विकास पदाधिकारी त्रिदेव मंडल, आत्मा की उप परियोजना निदेशक तृप्ति तिर्की, जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ0 टी पी साहू, जिला उद्यान पदाधिकारी एमलेन पुर्ति, जेएसएलपीएस कार्यक्रम प्रबंधक सुजीत बारी समेत अन्य उपस्थित थे।

डायन प्रथा उन्मूलन के लिए उपायुक्त ने प्रचार रथ को किया रवाना

महिला बाल विकास एवं समाजिक सुरक्षा विभाग की ओर से डायन प्रथा उन्मूलन अभियान के तहत आज उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो द्वारा आज प्रचार रथ को समाहरणालय परिसर से रवाना किया गया। इस प्रचार रथ के द्वारा अगले सात दिनों के भीतर सभी पंचातयों में जाकर डायन प्रथा उन्मूलन के लिए कई जानकारियां दी जायेंगी।

डायन प्रथा प्रतिषेध अधिनियम

डायन प्रथा प्रतिषेध अधिनियम, 2001 के तहत किसी औरत को डायन कहकर उसे शारीरिक या मानसिक यातना जानबूझ कर या अन्यथा प्रताड़ित करने पर छह माह की अवधि के लिए कारावास की सजा अथवा दो हजार रूपये तक जुर्माना अथवा दोनों सजा से दण्डित करने का प्रावधान है।

इस मौके पर उप विकास आयुक्त अखौरी शशांक सिन्हा, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी मनीषा तिर्की, समाजिक सुरक्षा के सहायक निदेशक एआई उरांव, जिला आपूर्ति पदाधिकारी प्रवीण केरकेट्टा समेत अन्य उपस्थित थे।

वर्तमान राज्य सरकार के एक वर्ष पूरे होने पर सरकार की उपलब्धियों को लेकर आज प्रचार रथ के जरिये कलाकारों ने किस्को प्रखण्ड के बंजार किस्को, निनी, ओयना, होंदगा और लोहरदगा प्रखण्ड के हिरही चौक व बराटपुर में प्रचार प्रसार किया गया। इसमें देशव्यापी लाॅकडाउन के दौरान 08 लाख मजदूरों की सकुशल घर वापसी, 2,63,103 श्रमिकों को 19,96,08,000 की सहायता राशि उनके बैंक खाते में भेजे जाने, फूलो-झानो आशीर्वाद योजना के तहत शराब-हड़िया बेचने वाली 19 हजार ग्रामीण महिलाओं को मुख्यधारा से जोड़े जाने, नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना के तहत 79943 योजनाएं पूर्ण होने, कोरोना वैक्सीन वितरण के लिए 248 वैक्सीन स्टोर निर्माण किये जाने, झारखण्ड खाद्य सुरक्ष योजना से 15 लाख लाभुक जोड़ने समेत अन्य जानकारी दी गई।
इससे पूर्व कलाकारों ने सोमवार को सेन्हा के बरही, भण्डरा के राजा बाजार, नवडीहा व भंडरा में प्रचार-प्रसार किया गया।

अमन अंसारी मानवाधिकार मीडिया संवाददाता लोहरदगा